Zara sa Qatra Kahin Aaj Agar Ubharta Hai | ज़रा सा क़तरा कहीं – Waseem Barelvi

Zara sa Qatra Kahin Aaj Agar Ubharta Hai:

Zara saa Qatraa kahiin Aaj Agar Ubharta Haii,
Samundaron Hii Ky Lahzey Mein Baat kartaa Haii,

Khulii Chhatonn Ke Diiye Kab Ky Bujh Gaye Hotey,
Koii Toh Haii Jo Hawaaon Ky Parr Katartaa Haii,

Sharaafatonn kii Yahaan koii Ahmiyaat Hii Nahiin,
Kisii Kaa Kuch Naa Bigaado Toh Kaun Dartaa Haii,

Yeh Dekhnaa Haii kii Sahraa Bhii Haii Samundarr Bhii,
Woh Mery Tishnaa-Labii Kis Ky Naam Kartaa Haii,

Tum Aa Gaye Ho Toh Kuch Chaandnii sii Baatein Honn,
Zamiin Pe Chaand Kahaan Roz Roz Utartaa Haii,

Zamiin Ki Kaisii Wakaalat ho Phirr Nahiin Chaltii,
Jab Asmaan Sy koii Faislaa Utartaa Haii. .!!

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है | Zara sa Qatra Kahin – वसीम बरेलवी

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है:

ज़रा सा क़तरा कहीं Aaj गर उभरता है,
समन्दरों ही Ky लहजे में Baat करता है
,

ख़ुली छतों के Diiye कब के बुझ Gaye होते,
कोई तो है जो हवाओं के Parr कतरता है
,

शराफ़तों की यहाँ Koii अहमियत ही नहीं,
किसी का Kuchh न बिगाड़ो तो कौन डरता है
,

ये Dekhnaa है कि सहरा भी है समुंदर भी,
वो मेरी तिश्ना-लबी किस के Naam करता है,

तुम आ Gaye हो तो फिर चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद Kahan रोज़ रोज़ उतरता है

ज़मीं की कैसी वक़ालत हो Phirr नहीं चलती,
जब आसमान से Koii फैसला उतरता है. .!!

Read more Ghazals. . .

Leave a Comment