Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke | सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain:

Suna Hai Log Use Aankh Bharr Ky Dekhty Hainn,
So Us Ke Shahr Mein Kuch Din Thahr Ke Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Rabt Haii Us ko Kharab-Halonn Sy,
So Apny App Ko Barbadd Kar Ky Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Dard kii Gahak Hai Chashm-E-Naaz Us Kii,
So Hum Bhii us ki Galii Say Guzarr Ky Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Uss Ko Bhii Haii Sherr-o-Shayari Sy Shagaff,
So Hum Bhii Moajiz’ze Apne Hunarr Ke Dekhty Hainn,

Sunaa Hai Bole Toh Baton Se Phuul Jhadty Hainn,
Yeh Baat Haii Toh Chalo Baat kar ke Dekhty Hainn,

Sunaa Hai Raat Usay Chaand Taktaa Rahtaa Haii,
Sitaary Baam-E-Falak Say Utar ke Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Din Ko Usay Titliyann Sata’ti Hainn,
Sunaa Hai Raat ko Jugnuu Thahr ke Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Hashrr Hain Us Ki Ghazaal Sii Aankheinn,
Sunaa Haii Us Ko Heeran Dasht Bharr ke Dekhty Hainn,

Sunaa Haii Raat se Badh kar Hain Kakulein Us Kii,
Sunaa Haii Shaam Ko Saaye Guzar Ke Dekhty Hainn,

Sunaa Hai us ki siyaah-chashmagii Qayamat Haii,
so us ko Surmaa-Farosh Aah bharr ke dekhty Hainn,

Sunaa Haii Us kay Labonn se Gulaab Jalty Hainn,
So Hum Bahaar Pe ilzaam Dharr ke dekhty Hainn,

sunaa Haii Aayinaa Timsaal Haii Jabiin us kii,
Jo Sadaa Dil Hainn usay Ban-sanwarr ke dekhty Hainn,

Sunaa Hai Jab Sy Hamayil Hain us Ki Gardan Meinn,
Mizaaj Aur Hii Laal-O-Guharr ke dekhty Hainn,

Sunaa Hai Chashm-E-Tasawwurr se Dasht-E-Imkann Meinn,
Palang Zaviiye us ki Kamar ke dekhty Hainn,

sunaa hai Us Kay Badann ki Tarashh Aisy Haii,
Ki Phuul Apni Qabayein Qatar ke dekhty Hainn,

Woh Sarv-Qadd Hai Magr Be-Gull-E-Muraad Nahinn,
Kii us Shajarr pe shagufe samar ke dekhty Hainn,

Bass Ikk Nigaah se Lut’ta Haii Qafilaa Dil Kaa,
So Rah-Rawan-E-Tamanna Bhii Darr ke Dekhty Hainn,

sunaa Hai us ke Shabistaan se Muttasiil Haii Bahisht,
Makiin Udharr ke Bhii Jalwey Idharr ke Dekhty Hainn,

Ruky Toh Gardisheinn us Ka Tawaaf karti Hainn,
chaly Toh us ko zamany Thahar ke dekhty Hainn,

Kisy Naseeb Kii Be-Pairahann Usay Dekhy,
kabhii kabhii Darr-o-Diwaar Gharr ke Dekhty Hainn,

Kahaniyaan Hii sahi sab Mubalghy Hii Sahii,
Agar Woh Khwaab Haii Tabiir Kar ke dekhty Hainn,

Ab us ke shahrr Mein Thahrein Kii Kunchh Kar Jayeinn,
‘Faraz‘ Aao sitary Safarr ke dekhty Hainn. .!!

– Ahmad Faraz

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं | Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain – Ahmad Faraz

सुना है लोग उसे Aankh भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन Thahar के देखते हैं,

Sunaa है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को Barbad कर के देखते हैं,

सुना है Dard की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की Galii से गुज़र के देखते हैं,

सुना है उस को भी है Sher-O-Shayari से शग़फ़,
सो हम भी मो’जिज़े अपने Hoonar के देखते हैं,

सुना है Bole तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो Baat कर के देखते हैं,

सुना है Raat उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से Utar के देखते हैं,

सुना है Din को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है Raat को जुगनू ठहर के देखते हैं,

सुना है Hashr हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त Bhar के देखते हैं,

सुना है रात से Badh कर हैं काकुलें उस की,
सुना है Shaam को साए गुज़र के देखते हैं,

सुना है उस की सियह-चश्मगी Qayamat है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश Aah भर के देखते हैं,

सुना है उस के लबों से Gulaab जलते हैं,
सो हम Bahaar पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं,

सुना है Aayiina तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा Dil हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं,

सुना है जब से हमाइल हैं उस की Gardan में,
Mizaj और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं,

Sunaa है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के Dekhte हैं,

सुना है उस के Badan की तराश ऐसी है,
कि फूल Apnii क़बाएँ कतर के देखते हैं,

वो सर्व-क़द है Magar बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े Samar के देखते हैं,

बस इक Nigaah से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी Darr के देखते हैं,

Sunaa है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे Idhar के देखते हैं,

रुके तो गर्दिशें उस का Tawaaf करती हैं,
चले तो उस को ज़माने Thahar के देखते हैं,

किसे नसीब कि बे-पैरहन Usay देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार Gharr के देखते हैं,

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही Sahii,
अगर वो ख़्वाब है Tabiir कर के देखते हैं,

अब उस के Shaher में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
‘फ़राज़‘ आओ Sitaare सफ़र के देखते हैं. .!!

– अहमद फ़राज़

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment