Koi Aisa Jadu Tona Kar | कोई ऐसा जादू टोना कर – Mubarak Siddiqui

Koi Aisa Jadu Tona Kar:

Koi Aisa Jadu Tona Karr,
Merey Ishq Meinn Woh Deewana Ho,
Yuun Ulatt Palat Karr Gardish Kii,
Main Shamma Woh Parwanaa Ho,

Zara Dekhh Ky Chaal Sitaaro’nn Kii,
Koyii Zaainchaa Kheenchh Qalandarr Saa,
Koyii Aisaa Jantarr Mantarr Padhh,
Jo Kar De Bakht Sikandarr Saa,

Koyi Chillsa Aisas Kaatt, Ke Phirr,
Koyii Us Kii Kaat Na Kar Paye,
Koi Aisa De Ta’aveez Mujhe,
Woh Mujh Par Aashique Ho Jaaye,

Koyii Faal Nikaal Karishma-garr,
Meri Raah Mein Phuul Gulaab Aayein,
Koi Paani Phoonk Ke De Aisaa,
Woh Piye To Mery Khwaab Aayein,

Koyi Aisa Kaalaa Jaadu Karr,
Jo Jag’mag Kar De Mery Din,
Wo Kahe Mubarak Jaldi Aa,
Ab Jiya Na Jaaye Tery Binn,

Koyi Aisii Raah Pe Daal Mujhey,
Jis Rah Se Woh Dildaar Miley,
Koi Tasbeeh Damm Duruud Bata,
Jise Padhun To Mera Yaar Mile,

Koii Qaabu Karr Be’qaabu Jinn,
Koi Saanp Nikaal Pitaari Say,
Koyii Dhaaga Kheench Paraandey Kaa,
Koii Manka Ikshadhaari Say,

Koi Aisa Bol Sikhaa De Naa,
Woh Samjhey Khush’guftaar Hoon Mainn,
Koi Aisaa Amal Kara Mujh Say
Woh Jaaney Jaa’n-e-Nisaar Hoon Mainn,

Koii Dhundh Ke Wo Kastoori Laa
Usay Lagey Main Chaand Ke Jaisa Hoon,
Jo Marzi Mere Yaar Ki Haii,
Usay Lage Main Bilkul Waisa Hoon,

Koi Aisa Ism-e-aazam Padh
Jo Ashk Baha De Sajdo’n Mein,
Aur Jaise Tera Daawa Hai
Mahboob Ho Mere Qadmo’n Mein,

Par Aamil Ruk, Ek Baat Kahun
Ye Qadmo’n Waali Baat Hai Kya,
Mahboob To Hai Sar Aankho’n Par
Mujh Patthar Ki Auqaat Hai Kya,

Aur Aamil Sun, Ye Kaam Badal
Ye Kaam Bahut Nuqsaan Ka Hai,
Sab Dhaage Us Ke Haath Mein Hain
Jo Maalik Kul Jahaan Ka Hai.!!

कोई ऐसा जादू टोना कर | Koi Aisa Jadu Tona Kar

कोई ऐसा जादू टोना कर
मेरे इश्क़ में वो दीवाना हो,
यूँ उलट पलट कर गर्दिश की
मैं शमा वो परवाना हो,

ज़रा देख के चल सितारों की
कोई जायीचा खींच क़लन्दर सा,
कोई ऐसा जंतर मंतर पढ़
जो कर दे बख्त सिकंदर सा,

कोई छिल्ला ऐसा काट के फिर
कोई उसकी काट न कर पाये,
कोई ऐसा दे तावीज़ मुझे
वो मुझ पर आशिक हो जाये,

कोई फाल निकाल करिश्मा-गर
मेरी राह में फूल गुलाब आयें,
कोई पानी फूँक के दे ऐसा
वो पियें तो मेरे ख़्वाब आयें,

कोई ऐसा कला जादू कर
जो जगमग कर दे मेरे दिन,
वो कहे मुबारक़ जल्दी आ
अब जिया न जाये तेरे बिन,

कोई ऐसी राह पे दाल मुझे
जिस राह से वो दिलदार मिले,
कोई तस्बीह दम-दरूद बता
जिसे पढूं तो मेरा यार मिले,

कोई काबू कर बेकाबू जिन,
कोई साँप निकल पिटारी से,
Koyii धागा खींच परांदे का,
कोई मनका इच्छाधारी से,

कोई ऐसा बोल सीखा देना,
वो समझे खुश-गुफ़्तार हूँ मैं,
कोई ऐसा अमल करा मुझसे,
वो जाने जांनिसार हूँ मैं,

कोई ढूंढ़ के वो कस्तूरी ला,
उसे लगे मैं चाँद के जैसा हूँ,
जो मर्ज़ी मेरे यार की है,
उसे लगे मैं बिलकुल वैसा हूँ,

कोई ऐसा इस्मे-ए-आज़म पढ़,
जो अश्क़ बहा दे सज़्दों में,
और जैसा तेरा दावा है,
मेहबूब हो मेरे क़दमों में,

पर आमिल रूक एक बात कहूँ,
ये क़दमों वाली बात है,
मेहबूब तो है सर-आँखों पर,
मुझ पत्थर की औकात है क्या,

और आमिल सुन, ये काम बदल,
ये काम बहुत नुक़सान का है,
सब धागे उसके हाथ में हैं,
जो मालिक कुल जहाँ का है. . !!

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment