Aah Ko Chahiye Ek Umar Asar Hone Tak | आह को चाहिए इक उम्र

Aah Ko Chahiye Ek Umar Asar Hone Tak:

Aah Ko Chahiye Ik Umarr Asarr Hony Tak,
Kaun Jitaa Haii Terii Zulff Ki Sarr Hony Tak,

Daam-E-Harr-Mauz MEin Haii Halkaa-E-Sad-Kaam-E-Nahang,
Dekhein Kyaa Guzary Haii Qatre Pe Guharr Hony Takk,

Aashiquii Sabrr Talab Aur Tamanna Betaab,
Dil Ka Kya Rang Karunn Khuun-E-Jigarr Hony Tak,

Ta-Qayamatt Shab-E-Fursatt Mein Guzarr Jayegy Umarr,
Saat Dinn Hum Pe Bharii Hain Saharr Hony Tak,

Hum Ne Mana Kii Taghaful Naa Karogy Lekinn,
Khaak Ho Jayengy Hum Tum Ko Khabarr Hony Tak,

Partav-E-Khurr Se Haii Shabnam Ko Fanaa Ki Taalimm,
Main Bhii Hoon Ek Inaayat Kii Nazarr Hony Tak,

Yakk Nazarr Besh Nahin Fursat-E-Hastii Ghaafil,
Garmii-E-Bazmm Haii Ek Raks-E-Shararr Hony Tak,

Ghum-E-Hastii Ka ‘Asad’ Kis Se Ho Juzz Marg Ilaaz,
Shamm’a Harr Rang Mein Jaltii Haii Saharr Hony Tak. .!!

– Mirza Ghalib

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक | Aah Ko Chahiye Ek Umar – Mirza Ghalib Ghazals

आह को चाहिए इक Umarr असर होने तक,
कौन जीता है Tirii ज़ुल्फ़ के सर होने तक,

दाम-ए-हर-मौज Mein है हल्क़ा-ए-सद-काम-ए-नहंग
देखें क्या गुज़रे है क़तरे पे गुहर Hone तक,

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना Betaab,
दिल का क्या Rang करूँ ख़ून-ए-जिगर होने तक,

ता-क़यामत शब-ए-फ़ुर्क़त में Guzarr जाएगी उम्र,
सात दिन Hum पे भी भारी हैं सहर होने तक,

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे Lekinn,
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को Khabar होने तक

परतव-ए-ख़ुर से है शबनम को Fanaa की ता’लीम ,
मैं भी हूँ एक इनायत की Nazar होने तक,

यक नज़र Besh नहीं फ़ुर्सत-ए-हस्ती ग़ाफ़िल,
गर्मी-ए-बज़्म Haii इक रक़्स-ए-शरर होने तक,

Gham-E-Hastii का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग Ilaaz,
शम्अ हर रंग में जलती है Sahar होने तक. .!!

– मिर्ज़ा ग़ालिब

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment